Mantunma

60.00

मन्टुनमा एक आम आदमी है । मैंगो मैन टाइप । मालिक का पोसुआ और गाँव का गमार । चटोर है लेकिन कामचोर नहीं । दिन भर खटता है और रात को झलरी के साथ ठसक से सोता है । देशी भाषा लिखी गई व्यंग्य जो आपको गाँव की और खीच लेगा ।

 

All books are shipped within 2-3 days of receiving an order.

In stock
ISBN-9788194984559 , ,

Description

मन्टुनमा – पुस्तक परिचय

कोसी के आंचलिक भाषा में लिखी गई यह किताब आपको इसलिये भी पढ़नी चाहिये ताकि शहर की दौड़-भाग में भूल चूकें गाँव और उसमें बिताएं बचपन को याद किया जा सके । मन्‍टुनमा के बारे में यही कहा जा सकता है कि उसके पीछे ‘मा’ लगा है इसलिए वो गवाँर है जाहिल है अनपढ़ है। जिस दिन ये हट गया, ये गवाँर, जाहिल और अनपढ़ का तमगा भी हट जाएगा। हम बिहारियों ने ढर्रा बना लिया है जिसके भी पीछे या, वा, मा, आ आदि प्रत्यय लगा होता है उसे गवाँर समझ लेते हैं। मन्टुनमा 24 साल से इसी प्रत्यय को हटाने में दिन रात लगा है। जिस दिन ये हट गया उस दिन से ये भी नवाब …वरना जिन्दगी भर के लिए तो गवाँर, जाहिल और अनपढ़ है ही।

यह किताब आपको गुदगुदाएगी भी लेकिन इसके तीखे व्यंवग्य समाज के रूढ़ विचारधारा की पोल भी खोलकर रख देगी ।

 

ISBN

9788194984559

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Mantunma”

Your email address will not be published.