Kalaon Ke Teen Shikhar

40.00

This book will be dispatched within 7 Days of placing an order

‘कलाओं की तीन शिखर’ इस दृष्टि से अभूतपूर्व है यह पुस्तक थिएटर , संगीत और चित्रकला के तीन विश्व प्रसिद्ध अनोखे किरदारों को एक साथ प्रस्तुत करती है। पंद्रहवी सदी में पैदा हुए महान चित्रकार लियोनार्दो दा विंसी, सोलहवीं सदी के विख्यात कवि व नाटककार विलियम शेक्सपियर तथा अठारहवी सदी में जन्मे अनूठे संगीतज्ञ लुडविग वान बीथोवन ने अपने-अपने क्षेत्र में युगान्तकारी परिवर्तन लाकर कैसे हमेशा के लिए उसे बदल डाला, यह किताब इस पर रौशनी डालती है ।

99 in stock

In stock
ISBN- ‎ 9789392342356

Description

कलाओं की तीन शिखर

 

‘कलाओं की तीन शिखर’ इस दृष्टि से अभूतपूर्व है यह पुस्तक थिएटर , संगीत और चित्रकला के तीन विश्व प्रसिद्ध अनोखे किरदारों को एक साथ प्रस्तुत करती है। पंद्रहवी सदी में पैदा हुए महान चित्रकार लियोनार्दो दा विंसी, सोलहवीं सदी के विख्यात कवि व नाटककार विलियम शेक्सपियर तथा अठारहवी सदी में जन्मे अनूठे संगीतज्ञ लुडविग वान बीथोवन ने अपने-अपने क्षेत्र में युगान्तकारी परिवर्तन लाकर कैसे हमेशा के लिए उसे बदल डाला, यह किताब इस पर रौशनी डालती है ।
लियोनार्दो की ‘मोनालिसा’ की रहस्यमय मुस्कुराहट के क्या मायने हैं ? शेक्सपीयर के पात्रों में आत्महत्या की प्रवृत्ति क्यों दिखाई देती है? ‘हैमलेट ‘ क्यों कहता है कि ‘To be or not to be’ ? ‘पूंजी’ की रचना में मार्क्स को कैसे शेक्सपीयर से मदद मिली ?
बीथोवन ने क्यों ऐसी सिंफनियों की रचना की जिसके बाद सुहानी धुनों की दुनिया में लौटना मुश्किल हो गया । बीथोवन की ‘पांचवी सिंफनी’ पर फ्रांसीसी क्रांति का कैसा प्रभाव था? यह किताब इन सब प्रश्नों के उत्तर देती है ।
यह पुस्तिका इन तीनों कलाक़ारों के व्यक्तित्व से परिचित कराते हुए हमें उनके ऐतिहासिक योगदानों से अवगत कराती है ।
‘कलाओं के तीन शिखर’ की भूमिका लिखने वाले हिंदी के सुप्रसिद्ध कवि नरेश सक्सेना के अनुसार “साहित्यकारों के लिए यह एक अनिवार्य पुस्तक की तरह है ।”

 

 

 

ISBN

9789392342356

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Kalaon Ke Teen Shikhar”

Your email address will not be published. Required fields are marked *