Mutton Dilruba (Pre-Order)

239.00

Shubham Upadhyay is a story writer of a completely different tone in the Hindi literary world. There are total 18 stories in his story collection ‘Mutton Dilruba’. The entire collection introduces the readers to a new effect and experience. His stories are related to Indian Muslim life. In all the discussions on Hindi stories, it has often arisen that very little has been written on everyday Muslim life and characters in Hindi literature. This is true also. In such a situation, what Shubham Upadhyay has done is auspicious for the entire literary world.

हिंदी साहित्य जगत में एक बिल्कुल भिन्न स्वर के कहानीकार हैं शुभम उपाध्याय। उनके इस कहानी संग्रह ‘मटन दिलरुबा’ में कुल 18 कहानियाँ हैं। पूरा संग्रह एक नयी तासीर और अनुभवबोध से पाठकों को परिचित कराता है। इनकी कहानियों का सम्बन्ध भारतीय मुस्लिम जीवन से है। हिंदी कहानियों पर होनेवाली तमाम चर्चाओं में यह बात अक्सर उठती रही है कि हिंदी साहित्य में रोजमर्रा के मुस्लिम जीवन और किरदारों पर बहुत कम लिखा गया है। यह सच भी है। ऐसे में शुभम उपाध्याय ने जो कर दिखाया है, वह पूरे साहित्य जगत के लिए शुभ है।

Expected Time of Shipment – 17th of March’ 22

 

 

In stock
ISBN- ‎ 979-8886069839 , ,

Description

मटन दिलरूबा

Shubham Upadhyay is a story writer of a completely different tone in the Hindi literary world. There are total 18 stories in his story collection ‘Mutton Dilruba’. The entire collection introduces the readers to a new effect and experience. His stories are related to Indian Muslim life. In all the discussions on Hindi stories, it has often arisen that very little has been written on everyday Muslim life and characters in Hindi literature. This is true also. In such a situation, what Shubham Upadhyay has done is auspicious for the entire literary world.

Shubham UPadhyay born on 18 September 1989, Sagar in MP. He obtained his BE (IT) degree from Indore. Shubham, who was awarded the ‘Best Youth Award 2015’ by the institution Shyamalam, has so far intervened prominently in his literary journey in the genres like drama writing, Adikavya and Shayari. Shubham Upadhyay’s book “Mutton Dilruba” is a wonderful collection of 18 great stories, which introduces readers to a new effect and a different kind of magic.

हिंदी साहित्य जगत में एक बिल्कुल भिन्न स्वर के कहानीकार हैं शुभम उपाध्याय। उनके इस कहानी संग्रह ‘मटन दिलरुबा’ में कुल 18 कहानियाँ हैं। पूरा संग्रह एक नयी तासीर और अनुभवबोध से पाठकों को परिचित कराता है। इनकी कहानियों का सम्बन्ध भारतीय मुस्लिम जीवन से है। हिंदी कहानियों पर होनेवाली तमाम चर्चाओं में यह बात अक्सर उठती रही है कि हिंदी साहित्य में रोजमर्रा के मुस्लिम जीवन और किरदारों पर बहुत कम लिखा गया है। यह सच भी है। ऐसे में शुभम उपाध्याय ने जो कर दिखाया है, वह पूरे साहित्य जगत के लिए शुभ है।

18 सितंबर 1989 को सागर,म.प्र. में जन्मे शुभम उपाध्याय ने इंदौर से बी.ई.(आई.टी.) की डिग्री प्राप्त की. संस्था श्यामलम् द्वारा ‘सर्वश्रेष्ठ युवा सम्मान 2015’ से सम्मानित शुभम ने अब तक अपनी साहित्य यात्रा में नाट्य लेखन, आदिकाव्य और शायरी जैसी विधाओं में प्रमुखता से हस्तक्षेप किया है. शुभम उपाध्याय की पुस्तक “मटन दिलरूबा” ,18 बेहतरीन कहानियों का एक लाजवाब संग्रह है, जो एक नयी तासीर और एक अलग क़िस्म के तिलिस्म से पाठकों का परिचय करवाता है।

 

 

 

ISBN

9798886069839

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Mutton Dilruba (Pre-Order)”

Your email address will not be published.